मंगलवार, 5 अगस्त 2008

अक्षरों का काफिला

ये रोज का किस्सा है
रात के अंधेरे में
जब सोता है जग
तब मैं
चलने लगती हूं अक्षरों के काफिले के साथ
देखती हूं
अक्षर मेरी सोच से भी आगे हैं
कभी कलम को छूते हैं
कभी कागज पर बैठते हैं
कभी गीत बनते हैं
कभी नज्म बनते हैं
और कभी अफसाना भी
बड़े नटखट हैं
चांद को छूते हैं
तारों से बातें करते हैं
पहाड़ी के मंदिर पर चढ़ जाते हैं
मंदिर की घंटियां बजाते हैं
दुआ लाते हैं
और आज
कर दी अनोखी हरकत
सूरज को ले आये
रख दिया काजग पर
मैं भी हैरान हुई
ये क्या हुआ
बहुत सेक था सूरज में
आखें खुली
सूरज का सेक तब भी था
दिल पर
मनविंदर भिम्बर

14 टिप्‍पणियां:

anitakumar ने कहा…

बहुत खूब

shivani ने कहा…

wah manvinder ji,kamaal ka likhti hain aap.......kitni sach baat kitne sunder tareeke se likhi hai...dil khush ho gaya.....bahut bahut badhai....aage bhi aisi ummeed rakhti hoon...thanx...

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

सूरज को ले आये
रख दिया काजग पर
मैं भी हैरान हुई
ये क्या हुआ
बहुत सेक था सूरज में
आखें खुली
सूरज का सेक तब भी था
दिल पर

बहुत ही सुंदर लिखा है आपने ..दिल को छु गया यह

shikha ने कहा…

exellent expression!

मीनाक्षी ने कहा…

बहुत प्यारे नटखट अक्षर .... हमारे भी दिल मे उतर गए... भावभीनी रचना

रश्मि प्रभा ने कहा…

अक्षर मेरी सोच से भी आगे हैं
कभी कलम को छूते हैं
कभी कागज पर बैठते हैं
कभी गीत बनते हैं
कभी नज्म बनते हैं
............. gr8 manvinder ji

ilesh ने कहा…

बहोत खूब......अक्षर दिल की भावनाओ में डूबकर निकलते हे तब ही अनोखा खेल रचाते हे कागज पर.....sach a gr8 write manvinder ji.....

रचना ने कहा…

बहुत खूबबहुत ही सुंदर लिखा है आपने ..दिल को छु गया यह

रोशन प्रेमयोगी ने कहा…

apke uper sawan ka asar hai
ek bar akele barish me bheeg ker dekhiye koi aur sunder rachana likhengi. meri shubhkamana apke sath hai
-roshan premyogi

अनूप भार्गव ने कहा…

आज चिट्ठा चर्चा के ज़रिये आप तक पहुँचा । कविता अच्छी लगी । प्रत्यक्षा ( http://pratyaksha.blogspot.com/ ) के ब्लौग पर लिखी कुछ पंक्तियां याद आ गई :
------
कई बार कल्पनायें पँख पसारती हैं.....शब्द जो टँगे हैं हवाओं में, आ जाते हैं गिरफ्त में....कोई आकार, कोई रंग ले लेते हैं खुद बखुद.... और ..कोई रेशमी सपना फिसल जाता है आँखों के भीतर....अचानक , ऐसे ही
-----
लिखते रहिये ..

बेनामी ने कहा…

I found this site using [url=http://google.com]google.com[/url] And i want to thank you for your work. You have done really very good site. Great work, great site! Thank you!

Sorry for offtopic

बेनामी ने कहा…

Who knows where to download XRumer 5.0 Palladium?
Help, please. All recommend this program to effectively advertise on the Internet, this is the best program!

बेनामी ने कहा…

Helo ! Forex - Outwork чашкой чая получать удовлетворение от работы получатьприбыль, достаточно зарегистрироваться forex [url=http://foxfox.ifxworld.com/]forex[/url]

बेनामी ने कहा…

[url=http://sexrolikov.net.ua/tags/%E5%E1%E5%F2%F1%FF/]ебется[/url] Смотреть порно онлайн : [url=http://sexrolikov.net.ua/tags/%EF%E0%F5%F3%F7%F3%FE/]пахучую[/url] , это все Вы можете смотреть онлайн